Categories
test

amp

Categories
test

Question 1

Question 1 : भारत का सबसे बड़ा व सबसे पुराना बैंक कौन सा है ? (Which is the largest and oldest bank in India?)

Full Description :

Question 1: भारत का सबसे बड़ा व सबसे पुराना बैंक कौन सा है ?

(Which is the largest and oldest bank in India?)

**  भारत का सबसे पुराना व् सबसे बड़ा बैंक है ।

-***  की स्थापना 2 जून 1806 बैंक ऑफ़ कलकत्ता से हुई थी।

– तीन बैंक (बैंक ऑफ बंगाल, बैंक ऑफ कलकत्ता, बैंक ऑफ बॉम्बे)के विलय के पश्चात इसे 27 जनवरी 1921 को उनका इंपीरियल *** आधुनिक बैंक घोषित कर दिया गया ।

Give the correct answer for below question 

Question : भारत का सबसे बड़ा व सबसे पुराना बैंक कौन सा है ?

Select Ans. :

 a) SBI

 a) SBBJ

 a) AXIS

 a) HDFC

Next Question: – 

Description :

आज कल के वक़्त में जिस प्रकार हम पैसे कमाने की होड़ में लगे है तो ये हो ही नहीं सकता की हम पैसे न बचाये। हम अपने बचे हुए पैसे को सुरक्षित रखने की दृष्टि से उसे बैंक में जमा कराते है। आज हम बात करेंगे भारत के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया के बारे में, आइये जानते है इसके बारे में ।

Categories
test

Question 2

Question : हाल ही में चल रहे क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019 में भारतीय टीम का कप्तान कोन है ? (Who is the captain of the Indian team in the recent Cricket World Cup 2019?)

Full Description :

Question 2: हाल ही में चल रहे क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019 में भारतीय टीम का कप्तान कौन
था ?
(Who was the captain of the Indian team in the recent Cricket World Cup 2019?)


क्रिकेट के महाकुंभ यानी वर्ल्ड कप 2019 की शुरुआत 30 मई 2019 को होने वाला है जहां दुनिया के 10 टॉप क्रिकेट टीमें वर्ल्ड को पाने के लिए एक दूसरे के साथ मुकाबला करते हुए नजर आएगी इसके लिए हाल ही में सभी क्रिकेट टीमों का चयन किया जा चूका भारत की और से कप्तानी का भार ****  को दिया गया है

Question : क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019 में कौन भारतीय टीम का कप्तान
था ?

Select Ans. :

  a) सौरभ गांगुली

  b) विराट कोहली

  c) महेंद्र सिंह

  c) रोहित शर्मा

Next Questions:

Description :

जो भारतीय टीम के लिए काफी समय से बेहतर प्रदर्शन करते हुए आ रहे है वर्ल्ड में सभी 10 टीमों को दो ग्रुप में विभाजित किया गया है भारत के ग्रुप में बांग्लादेश , साउथ अफ्रीका , ऑस्ट्रेलिया ,न्यूजीलैंड होगी सभी क्रिकेट फैन्स को _____  से उम्मीद होगी की 1983 कपिल देव और साल 2011 में महेंद्र सिंह धोनी की तरह देश के लिए 2019 का वर्ल्ड कप जीतकर भारत लाए |

Categories
test

क्या किसी भी बिमा वाहन का दुर्घटना होने पर सामने वाले वाहन को भी फायदा होता है

Question : क्या किसी भी बिमा वाहन का दुर्घटना होने पर सामने वाले वाहन को भी फायदा होता है ?

Full Description :

Question 3: क्या किसी भी बिमा वाहन का दुर्घटना होने पर सामने वाले वाहन को भी फायदा होता है ?

आप अपने किसी भी सड़क वाहन के लिए बिमा कंपनियों से वाहन बिमा करवा सकते है जो आपके लिए अति आवश्यक है वाहन बिमा का प्राथमिक उपयोग गाड़ी की दुर्घटना के समय सबसे अधिक होता है बिमा कंपनिया एक तय राशि पर आपकी गाड़ी का इंसोरेंस करती है जो 1 साल 2 साल वो आपकी चॉइस के अनुसार होता है

Give the correct answer for below question 

Question : क्या किसी भी बिमा वाहन का दुर्घटना होने पर सामने वाले वाहन को भी फायदा होता है ?

Select Ans. :

a) केवल खुद के वाहन को सुरक्षा मिल सकती है ।

b) दूसरे के वाहन को सुरक्षा मिल सकती है ।

c) विकल्प 1 और 2 दोनों सही है ।

d) विकल्प 1 और 2 दोनों सही नहीं है ।

Next Question

Description :

कंपनी आपके वाहन नंबर और गाड़ी की अन्य जानकारिया ले कर एक सर्टिफिकेट आपको देती है उसे वाहन बिमा कहते है इसमें आपके वाहन और आप से जुड़ी इंसोरेंस की टर्म को कंडीशंस होती है की यदि आपकी बाइक की दुर्घटना हो जाती है तो आपको आपके इंसोरेंस के अनुसार क्लेम की राशि मिलती है

Categories
test

राज्य सभा का उम्मीदवार होने के लिए अल्पतम उम्र क्या है

3 .राज्य सभा का उम्मीदवार होने के लिए अल्पतम उम्र क्या है ?

Full Description :

3 .राज्य सभा का उम्मीदवार होने के लिए अल्पतम उम्र क्या है ?

भारत के लोकतंत्र की ऊपरी प्रतिनिधि सभा राज्य सभा कहलाती है। इसके विपरीत लोकसभा राज्य सभा से निचली सभा है। राज्य सभा की पहली बैठक 9 दिसम्बर 1946 को हुई थी तथा राज्य सभा का पहला सत्र 13 मई 1952 को हुआ था।

Give the correct answer for below question 

Question : राज्य सभा का उम्मीदवार होने के लिए अल्पतम उम्र क्या है ?

Select Ans. :

 a) 30

 a) 45

 a) 40

 a) 24

Next : – 

Description :

राज्य सभा कुल 245 सदस्यों से मिलकर बनी होती है जिनमे 233 सदस्य चुनावो द्वारा निर्वाचित होते है तथा 12 सदस्य भारत के राष्ट्रपति के द्वारा नामांकित होते हैं। राष्ट्रपति के द्वारा जो सदस्य चुने जाते है उन्हें ‘नामित सदस्य’ कहा जाता है। राज्य सभा हर सदस्य को 6 साल के लिए ही चुनती है। इन राज्य सभा के सदस्यों में एक-तिहाई सदस्य हर ढाई साल में सेवा-निवृत होते हैं।

Categories
test

Start panchayti raj

5.भारत के संविधान का कौन सा अनुच्छेद अपने राज्यों को पंचायती राज के प्रारंभ करने का निर्देश देता है?

Full Description : 5.भारत के संविधान का कौन सा अनुच्छेद अपने राज्यों को पंचायती राज के प्रारंभ करने का निर्देश देता है?

किसी भी राष्ट्र द्वारा अपने नियमो और देश हित के लिए बनाये गए जिनके नक़्शे कदम राष्ट्र चल सकें उसे सविधान कहते है किसी भी राष्ट्र का सविधान उस राष्ट्र की जनमत राजनीति और उसके अंतर्गत आने वाले सभी चीजों के हितो की रक्षा करता है और देश के विकास की और काम करता है

Give the correct answer for below question 

Question : भारत के संविधान का कौन सा अनुच्छेद अपने राज्यों को पंचायती राज के प्रारंभ करने का निर्देश देता है?

( Which of the Constitution of India directs its states to start Panchayati Raj? )

Select Ans. :

 a) अनुच्छेद 352

 b) अनुच्छेद 40

 c) अनुच्छेद 51

 d) अनुच्छेद 25

Next : –

Description : पंचायती राज एक छोटा क्षेत्र होता है । जिसमे ग्राम, तालुका और जिले आते हैं। आजादी के बाद पहले प्रधानमंत्री जी ने राजस्थान के नागौर जिले के बगदरी गाँव में 2 अक्टूबर 1959 को पंचायती राज व्यवस्था लागू की थी । अगर बात की जाये प्राचीन भारत की तो ये पंचायती राज व्यवस्था पहले नहीं थी |

Categories
test

Submit test

Submit test

Full Description : Submit test

निचे दिए गए फॉर्म में कुछ अपनी जानकारी देकर अपने इस टेस्ट को पूरा करे ।

कृपया अपना 10 अंको का paytm नंबर सही से डालकर शुरू करें।

      Enter Your Paytm Number   +91-   

         Name:

Categories
test

Result of test

Your Test Submitted successfully |

We will contact you if you are selected ,  if you are eligible for get money we will contact and transfer your money . We have many transactions so in this process please you wait for 1 to 72 hours to get money.

आपका टेस्ट यहाँ समाप्त होता है । Result of test अब हम आपसे संपर्क करेंगे अगर आप अपने टेस्ट में पास होते है । इस प्रोसेस में समय लग सकता है । क्युकि हमारे पास टेस्ट देने वालो की संख्या ज्यादा है ।

click here for more test

Categories
jobs test

Government jobs 2019 | Latest Govt Jobs Today

Government Jobs 2019 – All Latest Govt Jobs.

All the legends, who seeking a government job if you are one, then this can be the best page for you. So, all the government job seekers who looking for the latest government job 2109, for the 8th pass, 10thpass, 12th passgraduate (BSc, BCom, B.A, B.E. e.t.c.), postgraduate(MSc, MCom, M.A, e.t.c.) Engineer, or any education field you belong you can apply for these jobs.

government jobs, sarkari naukri
government jobs, sarkari naukri

So, all Indian citizen has notified that if you have any educational qualification, then you apply for the latest upcoming government jobs like Railway, SSC, Public Sector, Banking and many more. All the job details are given below, So, if are one of the interested guys then must fill those forms according to your qualification and eligibility level.

Job Details. 


Name of the Government Organisation.
Air India.

Name of Posts.

  • Accountant Executive.
  • Accountant Clerk.

Number of Vacancies.
130+ Posts.

Last Date.
For Accountant Executive – 10-05-2019.
For Accountant Clerk – 11-05-2019.

For Job Details Click Here – Air India Recruitment 2019.
Name of the government Organisation.
State Bank of India (SBI).

Name of Posts.
SBI Junior Associate or Clerk.

Number of Vacancies –8000+ Posts.

Last Date – 03-05-2019.

For Job Details Click Here – SBI Junior Associate Recruitment 2019.

Name of the government Organisation.Railway Recruitment Board.

Name of Posts.

  • Helper, Track Maintainer, Hospital Attendant, Assistant Pointman, Gateman. Sweeper.
  • Junior Stenographer (Hindi/ English),  Junior TranslatorStaff and Welfare Inspector,  Lab Assistant,  Head CookSenior Publicity Inspector Physical Training Instructor,  more…..
  • Executive Engineer, Assistant Engineer, and Civil Engineer in the railway.

Number of Vacancies.1,00,000 + Posts.
Last DateAccording to the chosen posts.
For Details Click the Given Link. – Railway Recruitment 2019 – Railway Jobs in April 2019.

Name of the government Organisation.

State Bank of India.
Name of Posts.

Probationary Officer (PO).
Number of Vacancies.2000 Posts.
Last Date.22nd April 2019.
For Details Click the Given Link. – SBI PO Recruitment 2019Apply Online.

Name of the government Organisation.

Himachal Pradesh Police Recruitment.
Name of Posts.

  • Police Constable (male for general duty).
  • Police Constable (as a driver).
  • Police Constable (female for general duty).

Number of Vacancies.
Police Constable (male for general duty) – 720 Posts.
Police Constable (as a driver) – 130 Posts.
Police Constable (female for general duty) – 213 Posts. 
Last Date.30th April 2019.
For Details Click the Given Link. – Himachal Pradesh Police Recruitment 2019 for Constable post – Apply Online.

Name of the government organization.

Haryana Staff Selection Commission. 
Name of Posts.
Group – D.
Number of Vacancies.250 Posts.
Last Date.22nd April 2019.
For Details Click the Given Link. – HSSC Jobs – 10th Pass and 12th Pass Jobs for 200 Vacancies – Apply Online.

Name of the Government Organization.

Engineering Jobs – Engineer Recruitment for the government.
Name of Posts.
Assistant Executive Engineer, Senior Executive Engineer, Civil Engineer and many more…..
Number of Vacancies.1000+ Posts.
Last Date.According to the post which you choose.
For Details Click the Details – Engineering Jobs 2019 – Engineer Recruitment For Government Job.

Name of the government Organisation.

Employee’s State Insurance Corporation (ESIC).
Name of Posts.
Stenographer and Upper Division Clerk (UDC).
Number of Vacancies.1000 Posts.
Last Date.15th April 2019.
For Details Click the Link – ESIC Stenographer and Upper Division Clerk – Apply Online.

Name of Organisation.
Government Police.

Name of Posts.

  • Head Constable in BSF.
  • Assistant Commandant (UPSC).
  • Some other Vacancies in Police Force.

Number of Vacancies.
2000+ Posts.

Last Date.
Sept 2019. (According to posts).
For Job Details Click the Link – Police Jobs 2019.

Categories
test

कबीर पंथ : स्थापना से वर्तमान यात्रा

‘कबीर पंथ’ एक ऐसा पंथ है जो सदगुरु कबीर साहब के संदेशों को समाज जीवन में स्थापित करने के लिए प्रतिबद्ध है। सदगुरु कबीर की साखियों और पदों के माध्यम से मानवीय जीवन मूल्यों को समाज में आचरणीय बनाना जिसका लक्ष्य है। यह सर्वविदित है कि सदगुरु कबीर की वाणी भारतीय विचारधारा की अक्षय निधि है। यह विचार निधि किस रूप में, किसके माध्यम से हम तक पहुंचा, यह जानना आज बहुत ही प्रासंगिक है। वर्तमान वर्ष ‘श्री सदगुरु कबीर धर्मदास साहब वंशावली’ का यह पंच शताब्दी समारोह है।  

श्री सदगुरु कबीर धर्मदास साहब

कबीर साहित्य  

सदगुरु कबीर साहब ने अपने जीवनकाल में अनगिनत बातें कहीं, जो श्रुति रूप में आज भी देश के अनेक बोली-भाषाओं में प्रचलित है। पर वाणियों की प्रामाणिकता और विश्वसनीयता के तौर पर कबीरपंथ में अनेक ग्रंथ संगृहित है। साहित्य जगत में ‘बीजक’ को ही प्रामाणिक माना गया, तब हिंदी साहित्य के प्रखर विद्वान् आचार्य पंडित हजारीप्रसाद द्विवेदी ने अपनी रचना ‘कबीर’ में अनेक ग्रंथों का आधार लेकर यह बताने का सार्थक प्रयत्न किया कि महज कुछ पृष्ठों में संकलित ‘बीजक’ एकमात्र प्रामाणिक ग्रंथ नहीं हो सकता। इसपर यह तर्क दिया जा सकता है कि साधारण लेखक भी अपने जीवन काल में 20 से अधिक किताबों की रचना कर सकता है, तो सदगुरु कबीर जैसे प्रखर और क्रांतिकारी व्यक्तित्व का धनी अपने 119 वर्ष की आयु में केवल एक छोटी सी पुस्तिका में समा जाए, क्या इतनी ही वाणी कही होगी? भोर से संध्या तक समाज में व्याप्त कुरीतियों को समाप्त करने तथा समाज में नीति मूल्यों को स्थापित करने के लिए सार्थक प्रयत्न करनेवाले सदगुरु कबीर साहब ने निश्चय ही अनगिनत वाणियां कहीं हैं। आज जब हम उन वाणियों को पढ़ते-समझते और उससे प्रेरणा लेते हैं, तो उसके स्रोत को समझना बेहद जरुरी है।

सदगुरु कबीर साहब के वाणियों के लेखक और संकलनकर्ता धनी धर्मदास  

यूं तो धर्मदास साहब का नाम जुडावनदास था, परन्तु सदगुरु कबीर साहब के प्रति अनन्य भक्ति और समर्पण के चलते उन्होंने अपनी सारी सम्पत्ति समाजहित के लिए अर्पित कर दी। और तब सदगुरु को ‘नाम दान’ देकर धनी बना दिया और वे धनी धर्मदास कहलाए। इस सन्दर्भ में धर्मदास साहब ने लिखा है :-

संतों! हम तो सत्यनाम व्यापारी।

कोई कोई लादे कांसा पीतल, कोई कोई लौंग सुपारी।

हम तो लादे नाम धनी को, पूरन खेप हमारी।

पूंजी न घटी नफा चौगना, बनिज किया हम भारी।

नाम पदारथ लाद चला है, धर्मदास व्यापारी।।

धर्मदास साहब का जन्म मध्य प्रदेश के बांधवगढ़ में विक्रम संवत 1452 की कार्तिक पूर्णिमा को हुआ था। विकम संवत 1519 में व्यापार और तीर्थाटन के दौरान मथुरा में सदगुरु कबीर साहब से उनका सम्पर्क हुआ। उनकी दूसरी मुलाकात वि.सं. 1520 में हुई, जिसके बाद सदा के लिए सदगुरु ने उन्हें अपना बना लिया। धर्मदास साहब के निवेदन पर सदगुरु उनके गृहग्राम बांधवगढ़ आए। सदगुरु ने धर्मदास साहब, उनकी धर्मपत्नी आमीनमाता साहिबा और उनके द्वितीय पुत्र चुरामणिनाम साहब को आरती चौका कर दीक्षा प्रदान की। उल्लेखनीय है कि सदगुरु कबीर साहब ने धर्मदास साहब को नाम दान के साथ ही अटल ब्यालीस वंश का आशीर्वाद दिया, जिसके फलस्वरूप वि.सं.1538 में चुरामणि नाम साहब का प्रागट्य हुआ।

धनी धर्मदास साहब ने अनथक परिश्रम कर सदगुरु कबीर की अनगिनत वाणियों में से बहुत सी वाणियों को लिपिबद्ध किया, जिससे कुछ ग्रंथों की निर्मिती हो पाई, – बीजक, शब्दावली, साखीग्रंथ, कबीर सागर, सागर में ज्ञान सागर, अनुराग सागर, अम्बु सागर, विवेक सागर, सर्वज्ञ सागर, बोध सागर, ज्ञान प्रकाश, आत्मबोध, स्वसमवेद बोध, धर्म बोध, ज्ञान बोध, भवतारण बोध, मुक्ति बोध, चौका स्वरोदय, कबीर बानी, कर्म बोध, अमर मूल, ज्ञान स्थिति बोध, संतोष बोध, काया पांजी, पंच मुद्रा, श्वांस गुंजार, आगम-निगम बोध, सुमिरन बोध, गुरु महात्म्य, जीव धर्म बोध, स्वतंत्र ग्रंथ पूनो महात्म्य, ज्ञान स्वरोदय, गुरु गीता, आगम सन्देश, हंस मुक्तावली आदि। यह ज्ञान रूपी धन समाज जीवन में अविरल प्रवाहित होती रहे, इसके लिए सदगुरु कबीर साहब ने पंथ की स्थापना की और इसका दायित्व धनी धर्मदास और उनके ब्यालीस वंशों को दी।

कबीर पंथ की स्थापना और उनके संवाहक आचार्य 

गुरुगद्दी और कार्यकाल

सदगुरु कबीर साहब और धनी धर्मदास गुरु-शिष्य परम्परा के आदर्श हैं। धर्मदास साहब ने कबीर पंथ की आधारशिला रखनेवाले धर्मदास साहब का लोक गमन (निर्वाण) वि.सं. 1569 को हुआ। इसके बाद विक्रम संवत 1570 में स्वयं सदगुरु कबीर साहब ने धर्मदास साहब की धर्मपत्नी आमीनमाता साहिबा और संत समाज की उपस्थिति में उनके द्वितीय पुत्र चुरामणि नाम साहब जिन्हें मुक्तामणिनाम साहब भी कहा जाता है, को तिलक लगाकर गुरु गद्दी पर बैठाया। इस प्रकार मुक्तामणिनाम साहब कबीर पंथ के प्रथम आचार्य हुए। यह कबीर पंथ ‘श्री सदगुरु कबीर धर्मदास साहब वंशावली’ के नाम से आज दुनियाभर में जाना जाता है। कबीर पंथ के आचार्य को पंथ श्री कहा जाता है। कबीर पंथ के वंश परम्परा में गुरुगद्दी का स्थान और कालखंड प्रस्तुत है:-

पंथ श्री वचनवंश मुक्तामणिनाम साहब (बांधवगढ़, वि.सं 1570 से वि.सं. 1638 कुदुरमाल)

पंथ श्री सुदर्शननाम साहब (कुदुरमाल, वि.सं 1630 से वि.सं. 1690 रतनपुर)

पंथ श्री कुलपतिनाम साहब (रतनपुर, वि.सं 1690 से वि.सं. 1750 कुदुरमाल)

पंथ श्री प्रबोधगुरु (बालापीर) नाम साहब (कुदुरमाल, वि.सं 1750 से वि.सं. 1775 मंडला)

पंथ श्री केवलनाम साहब (मंडला, वि.सं 1775 से वि.सं. 1800 धमधा)

पंथ श्री अमोलनाम साहब (धमधा, वि.सं 1800 से वि.सं. 1825 मंडला)

पंथ श्री सुरतिसनेहीनाम साहब (मंडला, वि.सं 1825 से वि.सं. 1853 सिंघोड़ी)

पंथ श्री हक्कनाम साहब (सिंघोड़ी, वि.सं 1853 से वि.सं. 1890 कवर्धा)

पंथ श्री पाकनाम साहब (कवर्धा, वि.सं 1890 से वि.सं. 1912 कवर्धा)

पंथ श्री प्रगटनाम साहब  (कवर्धा, वि.सं 1912 से वि.सं. 1939 कवर्धा)

पंथ श्री धीरजनाम साहब (कवर्धा, 1936 में गद्दीशीन होने से पूर्व लोक गमन)

पंथ श्री उग्रनाम साहब (कवर्धा, वि.सं 1939 से वि.सं. 1971 दामाखेड़ा)

पंथ श्री दयानाम साहब  (दामाखेड़ा, वि.सं 1971 से वि.सं. 1984 दामाखेड़ा)

पंथ श्री गृन्धमुनिनाम साहब (दामाखेड़ा, वि.सं 1995 से वि.सं. 2048 दामाखेड़ा)

पंथ श्री प्रकाशमुनिनाम साहब (दामाखेड़ा, वि.सं 2046 से वर्तमान)

कबीर पंथ की वंशावली

इस प्रकार कबीर पंथ में 15 आचार्यों की पीढ़ी सेवारत हैं, जिन्होंने देश-विदेश में भ्रमण कर सदगुरु के वचनों को प्रसारित करने का कार्य किया। कबीर पंथ के 14वें आचार्य गृन्धमुनिनाम साहब के कार्यकाल में कबीर पंथ का तेजी से विस्तार हुआ। हिंदी साहित्य के प्रकांड विद्वानों, यथा,- आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी, महादेवी वर्मा, डॉ. रामकुमार वर्मा जैसे साहित्यकार पंथ श्री गृन्धमुनिनाम साहब की विद्वता और ज्ञान के आगे नत थे। वर्तमान में पंथ श्री प्रकाशमुनिनाम साहब इस परम्परा के संवाहक आचार्य हैं। पंथ श्री प्रकाशमुनिनाम साहब (दामाखेड़ा) अपने पूर्ववर्ती आचार्यों की ही तरह ‘नाम स्मरण’, ‘शाकाहार के आग्रही और मांसाहार का कड़ा विरोध, ‘मनुष्य निर्माण’, ‘धर्म का मर्म’, ‘सामाजिक कुरीतियों का विरोध’, ‘प्रकृति के साथ विकास’, ‘सत्य धर्म का प्रचार’ आदि अनेक विषयों को प्रवचन के माध्यम से जन सामान्य तक पहुंचाया।

कबीर पंथ का वर्तमान मुख्यालय दामाखेड़ा (रायपुर, छत्तीसगढ़) है, दामाखेड़ा गुरु गद्दी की स्थापना विजयादशमी को हुई थी, विजयादशमी को ही पंथ श्री प्रकाशमुनिनाम साहब का भी प्रागट्य हुआ। अतः दामाखेड़ा में प्रतिवर्ष विजयादशमी को ‘भव्य शोभायात्रा’ निकाली जाती है, जिसमें पंथ श्री रथ पर सवार होकर दर्शन देते हैं। इस शोभायात्रा में देश-विदेश के लोग सम्मिलित होते हैं, विभिन्न राज्य के लोग और जनजाति भजन, गीत और नृत्य करते हैं। इसी प्रकार माघ माह की पूर्णिमा के अवसर पर लगभग एक सप्ताह तक संत समागम समारोह का आयोजन प्रतिवर्ष होता है, जहां दुनियाभर के लाखों लोग सहभागी होते हैं।

कबीर धर्म नगर दामाखेड़ा के और साहेब के वीडियो देखे

कृपया सभी वीडियो के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें

https://www.youtube.com/watch?v=YZ3OUZJNHbg
https://www.youtube.com/watch?v=IUe5cUHMYVo
https://www.youtube.com/watch?v=OgynRxeSSQA